ग्लोबल वार्मिंग का असर, इस देश में अंतिम साबुत बची हिमचट्टान भी टूटीBookmark and Share

PUBLISHED : 12-Aug-2020



टोरंटो: कनाडा (Canada) में साबुत बची आखिरी हिम चट्टान (Ice shelf) का ज्यादातर हिस्सा गर्म मौसम और वैश्विक तापमान बढ़ने के चलते टूटकर विशाल हिमशैल द्वीपों में बिखर गया है. बता दें कि हिमचट्टानें बर्फ का एक तैरता हुआ तख्ता होती हैं जो किसी ग्लेशियर या हिमचादर के जमीन से समुद्र की सतह पर बह जाने से बनता है.

वैज्ञानिकों के मुताबिक एलेसमेरे द्वीप (Ellesmere Island) के उत्तरपश्चिम कोने पर मौजूद कनाडा की 4,000 वर्ष पुरानी मिलने हिमचट्टान जुलाई अंत तक देश की अंतिम अखंडित हिमचट्टान थी. कनाडाई हिम सेवा की बर्फ विश्लेषक एड्रीन व्हाइट ने गौर किया कि उपग्रह से ली गई तस्वीरों में इसका 43 प्रतिशत हिस्सा टूट गया है. उन्होंने कहा कि यह 30 जुलाई या 31 जुलाई के आस-पास हुआ.
व्हाइट ने कहा कि इसके टूटने से दो विशाल हिमशैल (आइसबर्ग) के साथ ही छोटी-छोटी कई हिमशिलाएं बन गई हैं और इन सबका पहले से ही पानी में तैरना शुरू हो गया है. सबसे बड़ा हिमशैल करीब-करीब मैनहट्टन (Manhattan) के आकार का यानि 55 वर्ग किलोमीटर है और यह 11.5 किलोमीटर लंबा है. जबकि इनकी मोटाई 230 से 260 फुट है. उन्होंने कहा कि यह बर्फ का विशाल, बहुत विशाल टुकड़ा है.
साभार

लाइफ स्टाइल

स्किन के लिए ग्लोइंग टॉनिक है अखरोट, जानें स्किन क...

PUBLISHED : Sep 23 , 12:39 PM

अखरोट का नाम सबसे पसंदीदा ड्राई फ्रूट्स में लिया जाता है। सेहत से जुड़े फायदों के साथ स्किन केयर के लिए भी अखरोट बेहद फाय...

View all

बॉलीवुड

Prev Next