जब कार्यपालिका विफल हो जाती है, तभी दखल देती है न्यायपालिका : प्रधान न्यायाधीशBookmark and Share

PUBLISHED : 07-Jun-2016



   

न्यायिक हस्तक्षेप के मोदी सरकार के आरोपों को खारिज करते हुए भारत के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति टी एस ठाकुर ने कहा है कि न्यायपालिका तभी हस्तक्षेप करती है जब कार्यपालिका अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियों को निभाने में विफल हो जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को आरोप मढ़ने के बजाय अपना काम करना चाहिए और लोग अदालतों में तभी आते हैं जब वे कार्यपालिका से निराश हो जाते हैं।

प्रधान न्यायाधीश ने एक टीवी कार्यक्रम में दिये गये साक्षात्कार में कहा कि अदालतें केवल अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी अदा करती हैं और अगर सरकार अपना काम करेगी तो इसकी जरूरत नहीं होगी।

सरकारी कामकाज में कथित न्यायिक हस्तक्षेप के संबंध में वित्त मंत्री अरुण जेटली के हालिया बयान के बारे में पूछे जाने पर सीजेआई ठाकुर ने कहा कि हम केवल संविधान द्वारा निर्दिष्ट अपने कर्तव्यों को पूरा करते हैं। अगर सरकारें अपना काम बेहतर तरीके से करें तो हस्तक्षेप की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी।

न्यायपालिका में बड़ी संख्या में खाली पड़े पदों के संबंध में न्यायमूर्ति ठाकुर ने कहा कि मैंने कई बार प्रधानमंत्री से अनुरोध किया है और इस मुद्दे पर केंद्र को एक रिपोर्ट भी भेज रहा हूं।

लाइफ स्टाइल

Health Tips : खाने की ये 5 बुरी आदतें भी हो सकती ह...

PUBLISHED : Oct 21 , 9:26 AM

आपने ऐसे कई लोगों को देखा होगा, जो मुंहासों या पिम्पल की समस्या से परेशान रहते हैं। ऐसे में उनके चेहरे पर पिम्पल के निशा...

View all

साइंस

गुड न्यूज: रिसर्चरों का दावा, हार्ट अटैक रोकने की ...

PUBLISHED : Oct 19 , 6:45 AM

रिसर्चरों ने एक ऐसी संभावित दवा विकसित की है, जो दिल के दौरे का इलाज करने और हृदयघात से बचाने में कारगर है। इन दोनों ही ...

View all

बॉलीवुड

Prev Next