चिकित्सालयों में स्वच्छता व्यवस्था की केन्द्रीकृत निगरानी होBookmark and Share

PUBLISHED : 20-Jan-2016



मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि चिकित्सालयों में स्वच्छता के पुख्ता प्रबंध हों। उन्होंने सफाई कार्यों की प्रभावी निगरानी के लिए केन्द्रीकृत व्यवस्था किये जाने की जरूरत बताई। श्री चौहान आज मंत्रालय में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की समीक्षा कर रहे थे।

बैठक में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा, राज्य मंत्री श्री शरद जैन, मुख्य सचिव श्री अन्टोनी डिसा, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्रीमती गौरी सिंह, आयुक्त लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री पंकज अग्रवाल एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पीड़ित मानवता की सेवा कार्य को निरंतर बेहतर से बेहतर बनाए जाने के प्रयास किये जायें। उन्होंने कहा कि प्रदेश की शासकीय एवं निजी संस्थाओं के ऑपरेशन थियेटर उच्च गुणवत्ता के हों। इसकी समय-समय पर समीक्षा की जाये। उन्होंने ऋतु परिवर्तन के कारण स्वाइन फ्लू के उपचार व्यवस्थाओं को पुख्ता करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री को बताया गया कि उपचार के प्रभावी प्रबंध किये गये हैं। उपचार के लिए आवश्यक दवाओं और अन्य सामग्री का पर्याप्त भंडारण है। वर्तमान में विगत वर्ष की तुलना में प्रदेश में वेन्टीलेटर की संख्या भी दोगुनी हो गई है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री द्वारा चिकित्सालयों में अल्ट्रा साउंड, सोनोग्राफी और एक्स-रे मशीनों की क्रियाशीलता के बारे में जानकारी चाही गई। बताया गया कि प्रदेश में 94 प्रतिशत मशीनें क्रियाशील हैं। इसकी केन्द्रीकृत व्यवस्था से निंरतर निगरानी की जा रही है।

सभी जिला चिकित्सालयों में डायलेसिस और कीमोथैरेपी की सुविधा उपलब्ध करवाए जाने की जानकारी दिये जाने पर मुख्यमंत्री ने इस संबंध में व्यापक जन जागृति का अभियान चलाने की जरूरत बताई। उन्होंने सोशल मीडिया का भी उपयोग करने के लिऐ कहा ताकि उपलब्ध सेवाओं का लाभ अधिक से अधिक रोगियों को मिले।

बैठक में बताया गया कि राज्य में खुली सिगरेट की बिक्री प्रतिबंधित करने की पहल की जा रही है। नर्सिंग होम्स के पंजीयन की व्यवस्था को ऑन लाइन कर दिया गया है। इसी दौरान यह भी बताया गया कि दृष्टि पत्र 2018 में सुदूर गाँवों में कम से कम एक हजार की तुलना में 2 हजार उप-स्वास्थ्य केन्द्र की स्थापना की कार्रवाई की जा रही है।

साइंस

20 साल के स्टूडेंट ने किया कमाल, आलू से बनाई डिग्र...

PUBLISHED : Oct 22 , 11:31 PM

चंडीगढ़: चंडीगढ़ की चितकारा यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट प्रनव गोयल ने आलू में मौजूद स्टॉर्च से प्लास्टिक जैसी एक नई चीज बनाई...

View all

बॉलीवुड

Prev Next