उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव : आज शाम थम जाएगा चुनाव प्रचार का शोरBookmark and Share

PUBLISHED : 06-Mar-2017



उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी समेत सात जिलों की 40 विधानसभा क्षेत्रों में आज शाम चुनाव प्रचार थम जाएगा। इस चरण में गाजीपुर, वाराणसी, चंदौली, मिजार्पुर, भदोही, सोनभद्र और जौनपुर में 'करो या मरो' की तर्ज पर चल रहा राजनीतिक पार्टियों का 'तूफानी' प्रचार अभियान आज थम जाएगा। इन जिलों में आठ मार्च को वोट डाले जाएंगे।

अंतिम चरण के महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि खुद प्रधानमंत्री मोदी वाराणसी में डटे हुए हैं। वह रोड शो कर रहे हैं, लोगों से मिल रहे हैं, जनसभाएं कर रहे हैं। सभी दल पूर्वी उत्तर प्रदेश को जीत का दरवाजा मान रहे हैं। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती की नजर विशेष तौर पर मुसलमान वोटरों पर है। उन्हें यकीन है कि राज्य के पूर्वी हिस्से का मुसलमान बसपा के पक्ष में मतदान करेगा।

इसी चरण में तीन नक्सल प्रभावित जिले भी शामिल हैं। सोनभद्र, मिजार्पुर और चंदौली में सुरक्षाबल एलर्ट हैं। सातों चरणों के वोटों की गिनती 11 मार्च को होगी। अंतिम चरण में 1.41 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे, जिनमें 64.76 लाख महिलाएं हैं। कुल 14 हजार 458 मतदान केन्द्र बनाये गये हैं।

बात 2012 की करें तो कुल 40 सीटों में से 23 सपा के खाते में गयी थीं। बसपा को पांच, बीजेपी को चार, कांग्रेस को तीन और अन्य को पांच सीटें मिली थीं। इस चरण में गाजीपुर, वाराणसी, जौनपुर, चंदौली, मिजार्पुर, भदोही और सोनभद्र में मतदान होगा। कुल 535 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

बसपा के 40, बीजेपी के 32, सपा के 31, कांग्रेस के नौ, रालोद के 21, राकांपा के पांच प्रत्याशी मुकाबले में हैं। सबसे अधिक 24 उम्मीदवार वाराणसी केंट सीट से मैदान में हैं जबकि सबसे कम छह प्रत्याशी केराकत सीट पर हैं।

लाइफ स्टाइल

कोरोना भगाने के लिए सोशल मीडिया पर वायरल टोटके, कह...

PUBLISHED : Mar 29 , 2:33 PM

महामारी से बचने के लिए पहले के लोग कोई न कोई टोटका किया करते थे। इसका कारण था मेडिकल साइंस का असहाय होना। कोरोना वायरस क...

View all

बॉलीवुड

Prev Next