अच्छा रहा मॉनसून तो फिर से लंबी दौड़ लगाएगा बाजार, इन शेयरों में निवेश बेहतरBookmark and Share

PUBLISHED : 19-May-2015

शेयर बाजार की भारी गिरावट के बाद अब निफ्टी ने बॉटम बना दिए हैं। बाजार की नजरें मानसून पर टिकी है। अगर मानसून सही समय पर आया और बारिश सामान्य रही तो, बाजार में बड़ी तेजी देखने को मिल सकती है। ये शब्द कैपिटल सिंडिकेट के मैनेजिंग पार्टनर सुब्रह्मण्यम पशुपति के है। मनी भास्कर से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि मौजूदा स्तर से सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट की आशंका काफी कम है, क्योंकि बाजार सभी बुरी खबरें फैक्टर कर चुका है। साथ ही टेक्निकल चार्ट पर निफ्टी ने 8000 के स्तर पर बॉटम बना दिया है। ऐसे समय में छोटे निवेशकों को एक साल के निवेश के लिहाज से एक महीने में चुनिंदा शेयरों में रोजाना थोड़ी-थोड़ी खरीदारी कर लेनी चाहिए।
बेहतर रहा मानसून तो सरपट दौड़ेगा बाजार
सुब्रह्मण्यम पशुपति कहते हैं कि बाजार की नजरें मानसून पर टिकी हैं। हाल में आ रहे मौसम विभाग के अनुमानों से यही लगता है कि इस साल मानसून से अच्छी बारिश की उम्मीद है। अगर सब कुछ सामान्य रहा तो अगले छह महीनों में बाजार फिर से नई ऊंचाई को छु सकता है।
निफ्टी ने 8000 पर बनाया बॉटम
सेंसेक्स और निफ्टी में ऊपरी स्तरों से 10 फीसदी की गिरावट आ चुकी है, लेकिन अब बाजार में किसी बड़ी गिरावट की आशंका नहीं है। निफ्टी ने 8000 के स्तर पर अपना बॉटम बना दिया है। साथ ही सभी बुरी खबरें बाजार पचा चुका है। इसीलिए अगले कुछ दिनों में सेंसेक्स और निफ्टी छोटे दायरे में ही कारोबार करता नजर आएगा।
इस माहौल में किसी निवेशक को एक साल के लिए निवेश करना है तो एक महीने में ही अच्छे फंडामेंटल और बेहतर ग्रोथ वाली कंपनी के शेयर अपने पोर्टफोलियो में शामिल कर लेने चाहिए। वहीं, अगर किसी निवेशक को 2-3 साल की अवधि के लिए निवेश करना है तो 2-3 महीने में रोजाना थोड़े-थोड़े शेयर खरीद सकता है।
आईडीएफसी और हाउसिंग शेयरों में निवेश फायदेमंद
मुझे आदित्य बिरला नूवो काफी बेहतर कंपनी लगती है। इसके अलावा हाउसिंग सेक्टर में सुधार आने पर एलआईसी हाउसिंग को बड़ा फायदा मिलेगा। निवेशक एचडीएफ और आईडीएफसी को लंबी अवधि के लिए अपने पोर्टफोलियो में शामिल कर सकते हैं।
एफआईआई अभी भी भारतीय बाजार में निवेशित है। हाल की बिकवाली में एफआईआई ने थोड़ी बिकवाली जरूर की है, लेकिन रुपए में जैसे ही मजबूती आएगी, वैसे ही एफआईआई वापस खरीदारी कर सकते हैं। इसके अलावा अमेरिका में बॉन्ड यील्ड गिरने से भी एफआईआई खरीदारी बढ़ने की उम्मीद है।
2 जून की पॉलिसी में ब्याज दरें घटने की उम्मीद
सुब्रह्मण्यम पशुपति कहते हैं कि यह कहना तो काफी मुश्किल है कि ब्याज दरें कब घटेंगी। लेकिन मुझे लगता है कि 2 जून की पॉलिसी में ब्याज दरें 0.25 फीसदी कम हो सकती है। अगर मानसून सही रहा और महंगाई दर पर दबाव नहीं आया तो इस साल 1 फीसदी से 1.5 फीसदी तक ब्‍याज दरें कम हो सकती हैं।
मानसून और संसद का अगला सत्र बाजार के लिए दो अहम ट्रिगर हैं। मानसून के इस साल सामान्य रहने की उम्मीद है। वहीं, संसद के अगले सत्र में जीएसटी और लैंड बिल पास हो जाएंगे, इसकी पूरी आशा है। क्रूड में निचले स्तर से 45 फीसदी की तेजी आ चुकी है। मुझे लगता है कि क्रूड अब स्टेबल हो गया है। दिसंबर तक मौजूदा स्तर से क्रूड में तेजी देखने को मिल सकती है।

लाइफ स्टाइल

Health Tips : ये 5 प्राकृतिक चीजें है बेहतरीन स्कि...

PUBLISHED : Nov 12 , 6:45 AM

हम में से बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जिनका शरीर तो जवां लगता है लेकिन उनके चेहरे पर रौनक नहीं होती। इसके अलावा उनके चेहरे...

View all

बॉलीवुड

Prev Next