प्रदेश के दो जिलों मे डिजिटल वाटर लेवल रिकार्डर लगेगाBookmark and Share

PUBLISHED : 10-Sep-2019




भोपाल।प्रदेश के दो जिलों इंदौर एवं रतलाम में केन्द्र सरकार पायलट प्रोजेक्ट के तहत डीडब्ल्युएलआर यानि डिजिटल वाटर लेवल रिकार्डर लगायेगी। इसके लिये उसने आवंटन जारी कर दिया है तथा राज्य के जल संसाधन विभाग ने नोडल एजेन्सी के रुप में निजी क्षेत्र से टेण्डर काल कर लिये हैं।
ये डीडब्ल्युएलआर टेलीमेट्री उपकरण लगाने के लिये इंदौर एवं रतलाम जिलों का चयन इसलिये किया गया है क्योंकि इनमें भू-जल स्तर काफी नीचे तक चला गया है और जहरीला लोराईड निकलने लगा है। इन जिलों में डीडब्ल्युएलआर की स्थापना एवं पीजोमीटर के रखरखाव हेतु टेण्डर निकाले गये हैं। निजी कंपनी को 5 नग डीडब्ल्युएलआर टेलीमेट्री उपकरण प्रदाय करने होंगे और साथ ही उनकी स्थापना, टेस्टिंग, कमिशनिंग तथा पीजोमीटर रखरखाव कार्य करने होंगे।
प्रदेश के विभिन्न जिलों में राज्य सरकार ने अपने संसाधनों से भी पहले से ही भू-जल स्तर मापन यंत्र लगा रखे हैं परन्तु ये जिले के सभी स्थानों पर न होकर कुछ ही स्थानों पर हैं और ये पुरानी तकनीक के हैं। केंद्र सरकार सभी राज्यों में आधुनिक भू-जल मापन यंत्र लगाना चाहता है जोकि डिजिटल हों। इसीलिये उसने प्रदेश के दो जिलों का पायलट प्रोजेक्ट के तहत चयन किया है। ये इन जिलों के उन स्थानों पर लगाये जायेंगे जहां वाटर लेवल की क्रिटिकल स्थिति है। इनसे मिलने वाले डाटा को आनलाईन केंद्र सरकर को भी भेजा जायेगा।
विभागीय अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत दो जिलों इंदौर एवं रतलाम का चयन डीडब्ल्युएलआर हेतु किया है तथा इसके टेण्डर जारी किये गये हैं। इन जिलों में भू-जल स्तर खतरनाक रुप से बहुत नीचे चला गया है और वहां जहरीला लोराईड निकलने लगा है। इसीलिये इसकी मानीटरिंग हेतु ये डिजिटल उपकरण लगाये जा रहे हैं। बाद में प्रदेश के अन्य जिलों में भी ये आधुनिक उपकरण लगाये जायेंगे।

बॉलीवुड

Prev Next