Health Tips : पटाखों के प्रदूषण से इन 5 तरीकों से करें अपना बचाव, बहुत काम के हैं ये टिप्स Bookmark and Share

PUBLISHED : 24-Oct-2019



दिवाली प्रकाश और खुशियों का त्योहार है। इस बात पर अमल करते हुए हमें कोशिश करनी चाहिए कि हमारी वजह से किसी के जीवन में अंधकार न हो या खुशियों की इस रात उन्हें किसी हादसे का सामना न करना पड़े। साथ ही दिवाली की रौनक के बीच हमें अपनी सेहत का ख्याल भी रखना है। पटाखों के शोर और धुएं के बीच आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा, जिससे आपकी सेहत पर कोई बुरा असर न पड़े। जानें टिप्स-


अस्थमा या श्वास सम्बधी बीमारी के शिकार लोग
अगर आपको या आपके घर में किसी को अस्थमा या श्वास सम्बधी कोई अन्य बीमारी है, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए कि परेशानी होने पर आपको सबसे पहले कौन से कदम उठाने हैं या होम ट्रीटमेंट के क्या तरीके हो सकते हैं। कोशिश करें कि ऐसी जगह पर रहें, जहां पर पटाखों का धुआं या शोर न पहुंचे।



पटाखों को जलाने के बाद हाथ साबुन से धोएं
पटाखों में कई केमिकल ऐसे होते हैं, जो आपके लिए बहुत हानिकारक है। इनमें से कुछ केमिकल तो ऐसे होते हैं, जिन्हें छूते ही आपकी त्वचा में जलन होने लगती है। ऐसे में आपके बच्चे या आप पटाखें जलाते हैं, तो आपको हाथ धोकर कोई और काम करना चाहिए।
 
धनतेरस पर अष्टलक्ष्मी फलदायी के बन रहे शुभ संयोग, इस स्थिर लग्न में मां लक्ष्मी, मां सरस्वती, गणेश और कुबेर की पूजा
इस बार धनतेरस पर लग्नादि, चंद्र मंगल, सदा संचार और अष्टलक्ष्मी फलदायी शुभ संयोग बन रहा है। दो दिन खरीदारी का भी योग बना है। ज्योतिषाचार्य ब्रह्मदत्त शुक्ल ने बताया कि धनतेरस पर सूर्य कृत उभयचरी नामक महान शुभ फलदायक संयोग निर्मित हो रहा है।



चेहरे और शरीर के खुले हिस्से पर क्रीम या तेल लगाएं
दिवाली की रात काफी ज्यादा मात्रा में पटाखे जलाए जाते हैं, ऐसे में पटाखों का धुआं और हानिकारक केमिकल हवा में घुल जाते हैं। ऐसे में त्वचा का हवा के साथ सीधा संपर्क रोकने के लिए त्वचा की नमी बनाए रखना बहुत जरूरी है।

 
 
धनतेरस पर अष्टलक्ष्मी फलदायी के बन रहे शुभ संयोग, इस स्थिर लग्न में मां लक्ष्मी, मां सरस्वती, गणेश और कुबेर की पूजा
इस बार धनतेरस पर लग्नादि, चंद्र मंगल, सदा संचार और अष्टलक्ष्मी फलदायी शुभ संयोग बन रहा है। दो दिन खरीदारी का भी योग बना है। ज्योतिषाचार्य ब्रह्मदत्त शुक्ल ने बताया कि धनतेरस पर सूर्य कृत उभयचरी नामक महान शुभ फलदायक संयोग निर्मित हो रहा है।
 


तले-भुनी चीजों को कम खाएं
दिवाली पकवानों का त्योहार भी है। ऐसे में सेहत को देखते हुए आपको कोशिश करनी चाहिए कि तली-भुनी चीजें कम खाएं क्योंकि पटाखों के धुएं से आपका मन खराब हो सकता है। तली-भुनी चीजों में ज्यादा भारीपन होता है,  जिसे पचने में वक्त लगता है।

 
आंखों के ऊपरी हिस्से पर लगाएं एलोवेरा जेल
आंखों का ऊपरी हिस्सा सबसे नाजुक होता है, जिसपर धुएं का असर सबसे ज्यादा होता है इसलिए आपको इस हिस्से पर एलोवेरा जेल लगाना है जिससे आंखों पर पटाखों के केमिकल और धुएं का कम असर पड़े। इससे आपकी आंखों में जलन नहीं होगी।



साभार
www.livehindustan.com

लाइफ स्टाइल

Health Tips : ये 5 प्राकृतिक चीजें है बेहतरीन स्कि...

PUBLISHED : Nov 12 , 6:45 AM

हम में से बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जिनका शरीर तो जवां लगता है लेकिन उनके चेहरे पर रौनक नहीं होती। इसके अलावा उनके चेहरे...

View all

बॉलीवुड

Prev Next