सीमा पर तनाव के बीच ब्रह्मपुत्र नदी पर भारत का बांध चीन के प्रभाव को कर देगा कमBookmark and Share

PUBLISHED : 02-Dec-2020



तिब्बत में ब्रह्मपुत्र नदी पर बांध बनाने के चीन के ऐलान के बाद भारत भी इस पर अरुणाचल प्रदेश में बड़ा बांध बनाने की तैयारी कर रहा है। यह पूर्वोत्तर को पानी की कमी और बाढ़ जैसे खतरों से बचाएगा। इतना ही नहीं, अरुणाचल में 10 गीगावाट का हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट भी लगाने की भी योजना है। विशेषज्ञों का मानना है कि ब्रह्मपुत्र पर भारत द्वारा बनाए जाने वाला बांध चीन के प्रभाव कम कर देगा।

बांध की जरूरत:
जल मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी टीएस मेहरा ने कहा, चीनी बांध के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए अरुणाचल में बड़े बांध की जरूरत है। यह प्रस्ताव सरकार को भेजा गया है। बांध बन जाने से भारत के पास ज्यादा पानी भंडारण करने की क्षमता होगी।

प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए:
मेहरा ने कहा कि हमने उन्हें (चीनी) बताया है कि आपकी कोई भी परियोजना का भारत पर प्रतिकूल प्रभाव पैदा नहीं करना चाहिए। उन्होंने आश्वासन दिया है, लेकिन हम नहीं जानते कि आश्वासन कब तक चलेगा। इसलिए अरुणाचल में बड़े बांध की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश की सियांग नदी पर प्रस्तावित 9.2 बीसीएम अपर सियांग परियोजना से अतिरक्त पानी के प्रवाह का इस्तेमाल होगा और पानी की कमी होने की स्थिति में भंडारण भी हो सकेगा।

मेहरा ने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र में अच्छी वर्षा के कारण मानसून के दौरान भारत में ब्रह्मपुत्र नदी का 90 प्रतिशत पानी उसकी सहायक नदियों से होकर आता है। सर्दियों में सियांग नदी का 80 प्रतिशत पानी ऊपरी जलधारा से आता है और हिमनद इसका मुख्य स्रोत हो जाता है।

गौरतलब है कि सोमवार को चीनी के मीडिया ने एक वरिष्‍ठ अधिकारी के हवाले से सूचना दी थी कि ब्रह्मपुत्र के एक भाग पर 60 गीगावाट तक हाइड्रो पावर प्रोजेक्‍ट के निर्माण हो रहा है। चीन के स्वामित्व वाली बिजली निर्माण के अध्यक्ष यान जिनोयांग ने एक उद्योग सम्मेलन में कहा था कि यह नदी को बांधने की योजना एक ऐतिहासिक अवसर है।

साभार

बॉलीवुड

Prev Next