इंदौर आईजी अनुराधा शंकर ने कहा ब्लैकमेलरBookmark and Share

PUBLISHED : 01-Feb-2013

इंदौर-इंदौर के ईजी-डे स्टोर में टेबिल टेनिस की नेशनल प्लेयर के साथ हुई अभद्रता के बाद लड़की की मां ने महिला आयोग में न्याय की गुहार लगाई है । पीड़िता की मां ने इंदौर आईजी अनुराधा शंकर पर असंवेदनहीन रवैया बरतने का आरोप लगाया है । उन्होंने बताया कि जब वो न्याय के लिए आईजी के पास पहुंची तो सहानुभूति जताने की बजाय अनुराधा शंकर ने उल्टा पीड़िता की मां पर ही ब्लैकमेलिंग करने का आरोप लगा डाला । .उन्होंने बताया कि जब वो अपनी बेटी के लिए न्याय मांगने अनुराधा शंकर के पास गईं तो उन्होंने ये कहकर उल्टा मां पर ही आरोप लगा दिया कि आखिर आप चाहती क्या है..आईजी ने ये भी कह डाला कि आपकी इन बातों से ब्लैकमेंलिग की बू आ रही है।। पुलिस के रवैये से निराश होकर इस मां ने अब न्याय के लिए राज्य महिला आयोग का दरवाज़ा खटखटाया है । पीड़िता की मां ने आयोग को बताया कि वो शॉपिंग मॉल में अपनी बेटियों के साथ सामान खरीदने गईं थी लेकिन जब वो वापस लौट रही थी तभी बीप बजी और चोरी की आशंका से महिला गार्ड ने उनकी बेटी के पूरे कपड़े उतरावकर उसकी चेकिंग कर डाली। इस अभद्रता की शिकार होने के बाद अब पीड़िता ने अपनी मां के जरिए सभी से एक ही सवाल पूछा है कि क्या इस देश में लड़की होना गुनाह है ।
इस मामले की शिकायत के बाद अब आयोग मामले की जांच में जुट गया है..आयोग की अध्यक्ष का कहना है कि सिक्योरिटी एक्ट में ये साफतौर पर लिखा है कि किसी भी सिक्योरिटी गार्ड को छूकर जांच करने की अनुमति नही है । वहीं आईजी अनुराधा शंकर के इस बयान पर भी आयोग ने हैरानी व्यक्त की है
जिस प्रदेश में बेटियों को बचाने का दावा किया जाता है वहां बेटियों की इज्जत सरेआम उतारी जा रही है । ऐसे में महिला पुलिस का ये रवैया करेले में नीम चढ़ाने का काम कर रहा है । कुलमिलाकर उस पीड़िता का सवाल आज हर लड़की का सवाल बन गया है कि क्या इस सच में देश में एक लड़की होना इतना बड़ा गुनाह है

लाइफ स्टाइल

Survey : घरों के परदों और सोफे से भी होती है सांस ...

PUBLISHED : Aug 17 , 3:09 PM

आमतौर पर माना जाता है कि सांस की बीमारी सिगरेट, बीड़ी पीने से होती है। पर, पिछले डेढ़ साल में हुए शोध के मुताबिक बिना धूम्...

View all

बॉलीवुड

Prev Next