बड़ी गाड़ियों से उतरकर कराते हैं बीपीएल कार्ड की आड़ में एडमिशनBookmark and Share

PUBLISHED : 24-Apr-2013

 भोपाल-राजधानी के नामी गिरामी स्कूलों पर आरटीई का पालन कराने की कवायद में जहां एक ओर सरकार जुटी हुई है वहीं मिशनरी स्कूल इसे उनपर एक थोपा हुआ फैसला बता रहे हैं । उनका कहना है कि लोग फर्जी बीपीएल कार्ड बनवाकर एडमिशन लेते हैं जिसके चलते गरीब वर्ग के वंचित बच्चों का अधिकार छिन जाता है और फायदा उठाते हैं बड़ी बड़ी गाड़ियों में आने वाले अमीर लोग ।आरटीई के तहत गरीब बच्चों को निजी स्कूलों में दाखिला दिलाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है जिसमें से राजधानी के 46 निजी स्कूलों ने आरटीई का प्रमाणपत्र दिखाकर खुद को इसके दायरे से बाहर कर लिया है । अब बाकी स्कूलों में गरीब बच्चों का प्रवेश दिलाने की कवायद चल रही है । इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी का कहना है कि वो सरकार के आदेश के मुताबिक चलेंगें और इस प्रक्रिया में कोताही बरतने वालों पर कड़ी कार्यवाई की जाएगी ।

वहीं इसे लेकर हमेशा से ही कटघरे में रहे मिशनरी स्कूल के प्राचार्य का कहना है कि वो गरीब बच्चों को प्रवेश देने के खिलाफ नही हैं बल्कि आरीई की आड़ में हो रहे फर्जीवाड़े के खिलाफ हैं । उनका कहना है कि बीपीएल का फर्जी कार्ड बनाकर वो लोग अपने बच्चों का एडमिशन कराते हैं जो महंगी गाड़ियों से आते हैं ।इस मामले में जिला प्रशासन से भी चर्चा की जा चुकी है लेकिन कोई हल नही निकल पाया । मसला जो भी हो लेकिन इसका पूरा खामियाज़ा भुगतना पड़ रहा है मासूम गरीब बच्चों को ।

लाइफ स्टाइल

Survey : घरों के परदों और सोफे से भी होती है सांस ...

PUBLISHED : Aug 17 , 3:09 PM

आमतौर पर माना जाता है कि सांस की बीमारी सिगरेट, बीड़ी पीने से होती है। पर, पिछले डेढ़ साल में हुए शोध के मुताबिक बिना धूम्...

View all

बॉलीवुड

Prev Next