पेटलावद जैसी दुर्घटना की पुनरावृत्ति नहीं हो, सावधानी, सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध होंBookmark and Share

PUBLISHED : 19-Sep-2015



 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पेटलावद जैसी दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना दोबारा नहीं हो, इसके लिये सभी पुख्ता इंतजाम किये जायें। श्री चौहान आज मंत्रालय में हादसे से प्रभावितों की सहायता के लिये किए गये कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में बताया गया कि दुर्घटना के सभी 71 मृतक के परिजन को 3 करोड़ 55 लाख की सहायता दी गई है। सहायता राशि 5-5 लाख रुपये सभी मृतकों के परिवारों के बैंक खातों में जमा करा दी गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि घटना में मृतकों की स्मृति को चिर-स्थाई बनाने के लिये पेटलावद में स्मारक का निर्माण किया जाये। इससे ऐसी दुघटनाओं के प्रति जन-जागरूकता बढ़ाने में भी मदद‍मिलेगी। सहायता के मामले में जिन पात्र व्यक्तियों और परिवारों के लिये नियमों में शिथिलता की आवश्यकता है, उसके प्रस्ताव तत्काल शासन को भेजे जायें। उन्होंने कहा कि विस्फोटक सामग्री के संधारण संबंधी नियम कायदों का कड़ाई से अनुपालन हो। यदि सुरक्षा के नये प्रावधानों की जरूरत है तो उन्हें बनाने की कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि दुर्घटना के प्रभावितों को हर संभव सहायता उपलब्ध करवाई जाये।

श्री चौहान ने कहा कि दुर्घटना के घायलों के पुर्नवास पर भी अभी से विचार किया जाये ताकि उनके स्वस्थ होते ही इस दिशा में कार्य किया जाये। उन्होंने कहा कि स्थाई नि:शक्तता पीड़ितों को अतिरिक्त आर्थिक सहायता देने के साथ ही उनकी शारीरिक स्थिति के अनुसार आजीविका उपलब्ध करवाने में भी सहयोग करें। उन्होंने चिकित्सालयों में उपचाराधीन घायलों की उपचार व्यवस्था की नियमित समीक्षा की जरूरत बताई। श्री चौहान ने कहा कि इलाज के लिए अधिक राशि की आवश्यकता होने पर तत्काल राशि उपलब्ध करवाई जाये। उन्होंने कहा कि घटना के आरोपी को हर हालत में पकड़ा जाये। उन्होंने कहा कि जन-जीवन को सामान्य बनाने में सहयोग के कार्य युद्ध स्तर पर हो।

संभागायुक्त इंदौर श्री संजय दुबे ने बताया कि मुख्यमंत्री की सभी घोषणाओं का अक्षरश: पालन हुआ है। शासन की 21 प्रकार की योजना द्वारा प्रभावितों को आर्थिक, आजीविका और सामाजिक सुरक्षा संबंधी सहायता उपलब्ध करवाई गई है। वैधानिक उत्तराधिकार के विवाद में मात्र चार प्रकरण में कार्रवाई प्रचलित है। मुख्यमंत्री ने मानवीय संवेदना और स्थानीय सामाजिक परम्पराओं के विशेष परिप्रेक्ष्य में उक्त प्रकरणों के त्वरित निराकरण के निर्देश दिए।

बैठक में बताया गया कि दुर्घटना के घायल 73 व्यक्तियों के लिये प्रति व्यक्ति 50 हजार रूपये के मान से कुल 36 लाख 50 हजार रूपये उनके बैंक खातों में जमा करवा दी गई है। कुल 36 निजी चिकित्सालय में उपचाराधीन घायलों के लिए चिकित्सालयों में आवश्यक राशि जमा हो गई है। कुल मृत 75 व्यक्ति में से 71 की पहचान हो गई है। अभी चार व्यक्ति की पहचान शेष है।

बैठक में झाबुआ जिले के प्रभारी श्रम मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, मुख्य सचिव श्री अंटोनी डिसा, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया, ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती अलका उपाध्याय, प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक गुप्तवार्ता श्री सरबजीत सिंह, मुख्यमंत्री के विशेष कर्त्तव्यस्थ अधिकारी श्री राजीव टंडन, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल, महानिरीक्षक पुलिस इंदौर वृत्त श्री विपिन कुमार माहेश्वरी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

साइंस

20 साल के स्टूडेंट ने किया कमाल, आलू से बनाई डिग्र...

PUBLISHED : Oct 22 , 11:31 PM

चंडीगढ़: चंडीगढ़ की चितकारा यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट प्रनव गोयल ने आलू में मौजूद स्टॉर्च से प्लास्टिक जैसी एक नई चीज बनाई...

View all

बॉलीवुड

Prev Next