सड़क पर दौड़ रही हर पांचवी कार के पास नहीं है फुल बीमा, नहीं मिलेगा कोई क्लेमBookmark and Share

PUBLISHED : 29-Nov-2014

 
नई दिल्ली। देश की सड़कों पर दौड़ रही हर पांचवी प्राइवेट कार के पास फुल बीमा नहीं है। यानी इन कारों पर किसी दुर्घटना के समय कार मालिक को किसी तरह का कोई क्लेम नहीं मिलेगा। यह सभी कारें केवल थर्ड पार्टी इंश्योरेंस पर चल रही हैं। जिसका सीधा सा मतलब है कि किसी अनहोनी पर न तो कार में बैठे व्यक्ति को कोई बीमा कवरेज मिलेगा और न ही कार की मरम्मत के लिए कोई बीमा क्लेम मिलेगा।
 
बीमा कंपनियों के अनुसार जैसे-जैसे कारें पुरानी होती जाती हैं, उस पर फुल बीमा (कमप्रिहेंसिव) बीमा कराने की दर घटती जाती है। कार मालिक ज्यादातर थर्ड पार्टी इंश्योरेंस ही कराते हैं। ऐसी स्थिति में कार की चोरी होने , दुर्घटना होने के समय कार मालिक के पास किसी तरह का क्लेम लेने का मौका नहीं होता है।
 
इंश्योरेंस इंफार्मेशन ब्यूरो ऑफ इंडिया (आईआईबी) द्वारा तैयार किए गए ताजा आंकड़ों के अनुसार साल 2012-13 में कुल 1 करोड़ 61 लाख 23 हजार 558 कारों का बीमा कराया गया है। जिसमें 27 लाख 51 हजार 767 कारों का केवल थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कराया गया है, जो कि 18 फीसदी बनता है। बीमा कराने का यही रुझान साल 2013-14 के आंकड़े में दिखा है। इंडस्ट्री सूत्रों के अनुसार थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कराना अनिवार्य है, इसलिए यह कराए जा रहे हैं, नहीं तो बिना बीमा के चल रही कारों का प्रतिशत और भी बढ़ जाता।
 
थर्ड पार्टी पर नहीं मिलता कोई क्लेम
बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के एमडी और सीईओ तपन सिंघल ने मनी भास्कर को बताया कि थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत दुर्घटना के दौरान थर्ड पार्टी को क्लेम मिलता है। ऐसे में जिस कार पर केवल थर्ड पार्टी इंश्योरेंस होता है, उस पर कार मालिक को कार चोरी होने, दुर्घटना आदि होने पर किसी तरह का क्लेम नहीं मिलता है। ऐसा ट्रेंड है कि जैसे-जैसे कार पुरानी होती जाती है, लोग उसका कमप्रिहेंसिव इंश्‍योरेंस नहीं कराते हैं। जबकि ऐसा करना कार मालिक के लिए फायदेमंद है। इससे कार पर किसी भी स्थिति में क्लेम मिलने का सपोर्ट होता है।
 
दुपहिया वाहनों में भी ऐसा ही ट्रेंड
 
आईआईबी के आंकड़ों के मुताबिक कारों की तरह दुपहिया वाहनों पर भी ऐसा ही ट्रेंड है। साल 2012-13 में कुल 3 करोड़ 61 लाख 9 हजार 120 दुपहिया वाहनों की बीमा कराया गया है। जिसमें से 68 लाख 82 हजार 703 दुपहिया वाहनों का केवल थर्ड पार्टी इंश्योरेंस है। दुपहिया वाहनों में थर्ड पार्टी इंश्योरेंस को इरडा ने एक साथ तीन साल तक के लिए करने की भी अनुमति बीमा कंपनियों को दी है। जिससे कि बिना बीमा के चल रहे वाहनों की संख्या में कमी आए।

लाइफ स्टाइल

Health Tips : खाने की ये 5 बुरी आदतें भी हो सकती ह...

PUBLISHED : Oct 21 , 9:26 AM

आपने ऐसे कई लोगों को देखा होगा, जो मुंहासों या पिम्पल की समस्या से परेशान रहते हैं। ऐसे में उनके चेहरे पर पिम्पल के निशा...

View all

साइंस

गुड न्यूज: रिसर्चरों का दावा, हार्ट अटैक रोकने की ...

PUBLISHED : Oct 19 , 6:45 AM

रिसर्चरों ने एक ऐसी संभावित दवा विकसित की है, जो दिल के दौरे का इलाज करने और हृदयघात से बचाने में कारगर है। इन दोनों ही ...

View all

बॉलीवुड

Prev Next