खजाना भर रही है प्रदेश सरकारBookmark and Share

PUBLISHED : 15-Jan-2013

डीजल,पेट्रोल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि के बाद जहां एक तरफ आमआदमी की महंगाई से कमर टूट रही है..वहीं प्रदेश सरकार इसके टैक्स से अपने खजाने भर रही है। डीजल पेट्रोल और रसोई गैस से इस साल प्रदेश सरकार को लगभग 300 करोड़ से ज्यादा की कमाई होगी और वो भी अकेले भोपाल से । इस आकड़े से तो यही साबित होता है कि भले ही लोगों के गुस्से का निशाना केंद्र सरकार बनती हो पर इसका फायदा तो प्रदेश सरकार को भी होता है । अगर बात डीजल की करें तो राजधानी में रोजाना 4 लाख 30 हजार लीटर डीजल की खपत होती है । एक लीटर डीजल पर प्रदेश सरकार को टैक्स के रूप में 11 रू 90 पैसे की कमाई होती है । कीमतों में वृद्धि के बाद प्रदेश सरकार की कमाई में प्रतिलीटर एक रूपए 42 पैसे का इजाफा हुआ है । यानी एक दिन में डीजल की खपत से प्रदेश सरकार को 6 लाख 10 हजार रूपए का राजस्व प्राप्त होता है । एक साल में ये कमाई एक अरब 87 करोड़ रूपए हो जाती है । वहीं पेट्रोल की बात करें तो रोजाना राजधानी में 3 लाख 20 हजार लीटर पेट्रोल की खपत होती है । 28 फीसदी टैक्स के हिसाब से प्रदेश सरकार को एक लीटर पर 16 रू मिलते हैं। यानी एक साल में ये आंकड़ा एक अरब 86 करोड़ 58 लाख रूपए हो जाता है । जानकार कहते हैं कि सरकार टैक्स में इसलिए कमी नही कर रही है क्योंकि कीमतों में इजाफे से उसके खजाने में भी वृद्धि होती है । अगर वृद्धि पर सरकार टैक्स ना ले तो आमजनता को राहत दी जा सकती है ।


बॉलीवुड

Prev Next