प्रदेश में तकनीकी शिक्षा की माँग और महत्व में होगी वृद्धिBookmark and Share

PUBLISHED : 24-Feb-2015



मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में किए जा रहे प्रयासों से देश-दुनिया का उद्योग जगत निवेश के लिये आकर्षित हुआ है। इससे तकनीकी शिक्षा की माँग और महत्व बढ़ेगा। युवाओं को रोजगार के नये अवसर मिलेंगे। श्री चौहान आज यहाँ इंजीनियरिंग एजुकेशन कॉनक्लेव को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार सभी वर्गों की समस्याओं के समाधान के लिये प्रयासरत है। स्मार्ट ग्लोबल सिटी बनाने के साथ ही झुग्गी-झोपड़ीवासियों की समस्याओं पर चिंतन और उनके समाधान के प्रयास किये गये हैं। समाज के सभी वर्गों के कल्याण की सर्वाधिक योजनाएँ प्रदेश में संचालित हैं। रोजगार के अवसर बढ़ाने के प्रयास सभी स्तरों पर हुए हैं। कुशल मानव संसाधन की उपलब्धता और निवेश प्रोत्साहन के कार्यों की यही एकसूत्रीय मंशा है। उद्योगों को आवश्यकतानुसार स्थानीय स्तर पर कुशल श्रम उपलब्ध करवाने औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में 66 नये ट्रेड प्रारंभ किए गए हैं। उच्च तकनीकी शिक्षा के लिये मुख्यमंत्री ऋण गारंटी योजना लागू की है। निजी क्षेत्रों के इंजीनियरिंग, मेडिकल कॉलेजों में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति-जनजाति छात्रों की फीस की प्रतिपूर्ति सरकार कर रही है। मुख्यमंत्री कांन्ट्रेक्टर योजना बना कर इंजीनियरों को स्व-रोजगार के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है। योजना के पहले बेच में 500 इंजीनियर को लाभान्वित किया गया है। उन्होंने कहा कि रोजगार अवसर बढ़ने पर तकनीकी शिक्षा की माँग तभी बढ़ेगी जब शिक्षा गुणवत्तापूर्ण हो। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिये साधन संपन्न संस्थान आवश्यक है। उन्होंने कहा कि सरकार और निजी क्षेत्र व्यावहारिक दृष्टिकोण के साथ विचार-विमर्श कर आवश्यक व्यवस्थाएँ कर सकते हैं।

फेडरेशन ऑफ मध्यप्रदेश चेम्बर ऑफ कामर्स एण्ड इन्डस्ट्री के अध्यक्ष श्री रमेश अग्रवाल ने कॉनक्लेव की जानकारी देते हुए तकनीकी शिक्षा संस्थाओं को सर्विस इंडस्ट्रीज के रूप में मान्यता
दिये जाने का सुझाव दिया। इंजीनियरिंग कॉलेज एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री सुनील बंसल ने बताया कि प्रदेश में 600 तकनीकी शिक्षण संस्थाएँ संचालित हैं, जिनमें 70 से 80 हजार लोगों को प्रत्यक्ष एवं दो से ढाई लाख व्यक्ति को परोक्ष रोजगार मिला है। उन्होंने बताया कि शिक्षण संस्थाओं को आयकर के प्रावधानों में अलाभकारी संस्थान माना गया है। कार्यक्रम में तकनीकी शिक्षा संचालक श्री आशीष डोंगरे भी उपस्थित थे।

लाइफ स्टाइल

कोरोना भगाने के लिए सोशल मीडिया पर वायरल टोटके, कह...

PUBLISHED : Mar 29 , 2:33 PM

महामारी से बचने के लिए पहले के लोग कोई न कोई टोटका किया करते थे। इसका कारण था मेडिकल साइंस का असहाय होना। कोरोना वायरस क...

View all

बॉलीवुड

Prev Next