विंटर वियर की कीमतें 15% तक गिरीं, कमजोर मांग से इंडस्‍ट्री परेशानBookmark and Share

PUBLISHED : 22-Nov-2014

 
नई दि‍ल्ली। प्योर वूल से बने गर्म कपड़ों के दाम भले पिछले साल के मुकाबले 10 से 12 फीसदी तक चढ़े हो लेकिन कॉटन, पॉलिस्टर और एक्रेलिक से बने गर्म कपड़ों की कीमतों में पिछली साल के मुकाबले गिरावट आई है। 
 
निटवियर क्‍लब लुधियाना के जनरल सक्रेटरी नरिंदर मिगलानी ने मनी भास्‍कर को खास बातचीत में बताया कि विंटर वियर के कुल उत्‍पादन में प्‍योर वूल से बनने वाले प्रॉडक्‍ट की हिस्‍सेदारी 15 फीसदी से भी कम है। लुधियाना में 85 से 90 फीसदी गर्म कपड़ों में एक्रेलिक और पोलिस्‍टर का प्रयोग किया जाता है। इस प्रकार प्‍योर वूल के दाम भले ही बढ़े हों, लेकिन इससे विंटर वियर की कीमतों में कोई खास असर नहीं पड़ेगा।
 
होलसेल मार्केट में एक्रेलिक से तैयार होने वाले स्वेटर, जैकेट और स्वेट शर्ट जैसे प्रोडक्ट पिछले साल की तुलना में 10 से 15 फीसदी तक सस्ते हैं। कीमतों में इस गिरावट की मुख्य वजह घरेलू स्तर पर डिमांड का कमजोर होना है। साथ ही सर्दियों के मौसम की देर से शुरुआत और शादी के मुहूर्त पिछले साल की तुलना में कम होने से भी मांग पर दबाव देखने को मिल रहा है।
 
लुधियाना बेस्ड ड्यूक ग्रुप के डायरेक्टर कुंतल राज जैन के मुताबिक किसी भी नॉन वूल प्रोडक्ट के दामों में किसी तरह का कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। दामों में बढ़ोतरी न करने की वजह घरेलू स्तर पर डिमांड का कमजोर होना है। देश के बड़े मैन्यूफैक्चरर्स की ओर से इस रणनीति के बाद यह बात कही जा सकती है कि नॉन वूल प्रोडक्ट के दामों में किसी तरह की बढ़ोतरी की कोई उम्मीद है।

लाइफ स्टाइल

Survey : घरों के परदों और सोफे से भी होती है सांस ...

PUBLISHED : Aug 17 , 3:09 PM

आमतौर पर माना जाता है कि सांस की बीमारी सिगरेट, बीड़ी पीने से होती है। पर, पिछले डेढ़ साल में हुए शोध के मुताबिक बिना धूम्...

View all

बॉलीवुड

Prev Next