साइंस

  • मौजूदा दशक इतिहास में होगा सबसे गर्मः संयुक्त राष्ट्र
    PUBLISHED : 06-Dec-2019
  • संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को कहा कि मौजूदा दशक इतिहास में सबसे गर्म दशक होगा। संयुक्त राष्ट्र ने यह बात एक वार्षिक आकलन में कही जिसमें वे तरीके रेखांकित किए गए जिसमें जलवायु परिवर्तन मनुष्य को उसके अनुरूप ढालने की मनुष्य की क्षमता को पीछे छोड़ रहे हैं। विश्व मौसम संगठन (डब्ल्यूएमओ) ने कहा कि अभी तक इस वर्ष वैश्विक तापमान पूर्व-औद्योगिक औसत से 1.1 डिग्री सेल्सियस ऊपर है। इससे 2019 अब तक दर्ज तीन स
  • चांद की सतह पर मिला Chandrayan- 2 के विक्रम लैंडर का मलबा, नासा ने जारी की तस्वी
    PUBLISHED : 03-Dec-2019
  • सितंबर में चंद्रमा की सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हुए विक्रम लैंडर को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के एक उपग्रह ने सोमवार को ढूंढ निकाला है। नासा ने अपने लूनर रेकॉन्सेन्स ऑर्बिटर (एलआरओ) द्वारा ली गई एक तस्वीर जारी की है, जिसमें अंतरिक्ष यान से प्रभावित जगह दिखाई पड़ी है। तस्वीर में यान से संबंधित मलबे वाला क्षेत्र को दिखाई पड़ रहा है, जिसमें कई किलोमीटर तक लगभग एक दर्जन से अधिक स्थानों पर मलबा बिखरा हु
  • जलवायु परिवर्तन से बच्चों और बुजुर्गों को सबसे ज्यादा खतरा, रिपोर्ट में हुआ खुला
    PUBLISHED : 27-Nov-2019
  • सौरभ पांडेय, नई दिल्ली: इस वक्त जलवायु परिवर्तन पूरी दुनिया की सबसे बड़ी समस्या बन गया है. आने वाले समय में स्थिति और भयावह रूप लेने वाली है. खासकर, बच्चों और बुजुर्गों के स्वास्थ्य पर इसका गहरा असर पड़ेगा. तापमान बढ़ने से घातक किस्म के बैक्टीरिया पनपने का खतरा बढ़ जाएगा. साथ ही खराब फसल की पैदावार के चलते बड़ी संख्या में लोग कुपोषित होंगे. अमेरिका में जलवायु परिवर्तन के खतरों पर तैयार की गई ''द ल
  • बायोटेक्नोलॉजी पर दिल्‍ली में हो रहा तीन दिवसीय वैश्विक सम्मेलन
    PUBLISHED : 22-Nov-2019
  • नई दिल्ली: आने वाले दिनों में देश के विकास में अहम भूमिका निभाने वाले क्षेत्र बायोटेक्नोलॉजी पर राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार से तीन दिवसीय वैश्विक सम्मेलन शुरू हो रहा है. इस सम्मेलन में देश-विदेश से आए विशेषज्ञों, शोधकर्ताओं व नवोन्मेषकों के साथ-साथ स्टार्टअप और इस क्षेत्र से जुड़ी छोटी-बड़ी कंपनियों को बायो-मैन्युफैक्चरिंग, क्लीनिकल ट्रायल और दवाइयों की खोज के क्षेत्र की संभावनाओं और चुनौतियों प
  • 20 साल के स्टूडेंट ने किया कमाल, आलू से बनाई डिग्रेडेबल प्लास्टिक
    PUBLISHED : 20-Nov-2019
  • चंडीगढ़: चंडीगढ़ की चितकारा यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट प्रनव गोयल ने आलू में मौजूद स्टॉर्च से प्लास्टिक जैसी एक नई चीज बनाई है. यह प्लास्टिक की तरह बिल्कुल पारदर्शी है. यह दिखने और छूने बिल्कुल प्लास्टिक जैसा ही है. इसे आसानी से मोल्ड भी किया जा सकता है. दरअसल प्रनव ने आलू में पाए जाने वाले स्टॉर्च से एक प्रकार की थर्मोप्लास्टिक को बनाया है, जो अभी उपयोग की जा रही प्लास्टिक से बहुत ज्यादा मिलता जुलता
  • World Diabetes Day 2019: डायबिटीज से छुटकारे के लिए आने वाली पीढ़ी बदलनी होगी अप
    PUBLISHED : 13-Nov-2019
  • डायबिटीज देश में तेजी से बढ़ने वाली बीमारियों में से एक है। एक शोध की मानें तो पिछले 25 बरस में इस बीमारी के मामलों में 64 प्रतिशत इजाफा हुआ है और विशेषज्ञ इस बढ़ोतरी को देश की आर्थिक प्रगति के साथ जोड़कर देख रहे हैं। इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात यह है कि आने वाले छह बरसों में देश में इस बीमारी के मरीजों की संख्या 13.5 करोड़ से ज्यादा हो सकती है, जो वर्ष 2017 में 7.2 करोड़ थी।
  • 'गगनयान' को लेकर क्‍या कहते हैं भारत के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा?
    PUBLISHED : 29-Oct-2019
  • बेंगलुरु : भारत के प्रथम अंतरिक्ष यात्री एवं वायुसेना के सेवानिवृत्त पायलट विंग कमांडर राकेश शर्मा ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि इसरो 2022 तक 'गगनयान' मिशन को अंजाम देने में सफल होगा। उन्होंने यहां एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, 'हम कुछ भी करने में सक्षम हैं। बस हमें कभी अवसर नहीं मिला या वास्तव में हम जो हासिल करने में सक्षम है उसके लिए सहायता नहीं मिली।'
  • विक्रम लैंडर को नहीं ढूढ पाया नासा, इन दो कारणों से पता नहीं चला
    PUBLISHED : 26-Oct-2019
  • नई दिल्ली : अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) एक बार फिर चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) को चंद्रमा की सतह पर ढूढ़ पाने में विफल रहा है. महीने की शुरुआत में विक्रम के उतरने के स्थान का नासा के अंतरिक्ष यान द्वारा उतारे गए चित्रों में लैंडर नहीं दिखाई दिया है.
  • 20 साल के स्टूडेंट ने किया कमाल, आलू से बनाई डिग्रेडेबल प्लास्टिक
    PUBLISHED : 22-Oct-2019
  • चंडीगढ़: चंडीगढ़ की चितकारा यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट प्रनव गोयल ने आलू में मौजूद स्टॉर्च से प्लास्टिक जैसी एक नई चीज बनाई है. यह प्लास्टिक की तरह बिल्कुल पारदर्शी है. यह दिखने और छूने बिल्कुल प्लास्टिक जैसा ही है. इसे आसानी से मोल्ड भी किया जा सकता है. दरअसल प्रनव ने आलू में पाए जाने वाले स्टॉर्च से एक प्रकार की थर्मोप्लास्टिक को बनाया है, जो अभी उपयोग की जा रही प्लास्टिक से बहुत ज्यादा मिलता जुलता
  • चीन का 36वां अंटार्कटिक अध्ययन शुरू, दक्षिणी ध्रुव पर जाएगा
    PUBLISHED : 17-Oct-2019
  • चीन द्वारा स्वनिर्मित ध्रुवीय वैज्ञानिक जांच का आइसब्रेकर शुए लोंग नंबर-2 दक्षिणी ध्रुव पर जाएगा। चीन के 36वें अंटार्कटिक अध्ययन का दल 105 संस्थाओं के 413 लोगों से गठित है। 2 वैज्ञानिक अनुसंधान जहाज 4 स्टेशनों पर अनुसंधान कार्य करेंगे।
< >

बॉलीवुड

Prev Next